Home अभी-अभी भोजपुरी फिल्मों के हीरो और हीरोइन क्यों जाएंगे जेल? जानें क्‍या है...

भोजपुरी फिल्मों के हीरो और हीरोइन क्यों जाएंगे जेल? जानें क्‍या है पूरा माजरा

Desk: भाजपा विधायक विनय बिहारी ने ब‍िहार सरकार से कहा है क‍ि अगर भोजपुरी गानों से अश्लीलता खत्म करनी है, तो सरकार को वैसे भोजपुरी हीरो और हीरोइन के साथ-साथ जो भी इस तरह के अश्लील गाना बनाते या गाते है उन्हें तुरंत जेल भेज देना चाहिए.

बिहार विधानसभा में भाजपा के एक विधायक विनय बिहारी ने अजीब सी मांग बिहार सरकार से कर दी है. विनय बिहारी ने सरकार से कहा क‍ि बिहार सरकार ने अश्लील गानों के खि‍लाफ यह आदेश निकाला है क‍ि जो भी ऐसा करेंगे उनपर कार्रवाई होगी, लेकिन बावजूद इसके इसमें कोई रोक नही लग रही है. अगर भोजपुरी गानों से अश्लीलता खत्म करनी है, तो सरकार को वैसे भोजपुरी हीरो और हीरोइन के साथ-साथ जो भी इस तरह के अश्लील गाना बनाते या गाते है उन्हें तुरंत जेल भेज देना चाहिए. अगर दो-चार बड़े भोजपुरी स्टार को अश्लील गाना गाने पर जेल भेजा जाता है तो इस कदम से अश्लील गाना बनाने और गानेवालों में डर आएगा, जिसका सबसे बड़ा फ़ायदा भोजपुरी गानों और फि‍ल्मों को होगा.

विनय बिहारी कहते है क‍ि जब अंगिका, मैथिली, मगही जैसी भाषाओं में भी फि‍ल्में बनती है तो उसके गाने अश्लील क्यों नहीं बनते है. सिर्फ भोजपुरी गानों में ही अश्लीलता क्यूं होती है. मैं भी कलाकार हूं, फ़िल्मों में काम करता हूं, गाने भी लिखता और गाता हूं, लेकिन मैंने ना तो ऐसे गाने लिखे या फ़िल्मों में गाना गाया है. ब‍िहार सरकार से मै मांग करता हूं क‍ि भोजपुरी फ़िल्मों और बनने वाले गानों से अश्लीलता को खत्म किया जाएं और जो भी कड़े कदम उठाने हो उठाए ताकि भोजपुरी फ़िल्मों की मधुरता और खनक कायम रह सके.

लेकिन ऐसा करना इतना आसान नहीं है क्योंकि आज शायद ही कोई भी भोजपुरी फ़िल्में बनती है, जिसमें गानों से लेकर कहानी तक में अश्लीलता ना हो. भोजपुरी फ़िल्मों के बाज़ार में ऐसे ही गानों की मांग है जिसमें दो अर्थी शब्द और भाव हो. जानी-मानी भोजपुरी गायिका और संगीतकार ख़ुशबू उत्तम कहती है कि हमारे पास ऐसे ही गानों की फ़रमाइश आती है, जिसमें अश्लीलता भरी रहती है. कई बार तो ऐसे गाना गाने का मन भी नहीं करता है लेकिन इस इंडस्ट्री में ऐसे ही गाने का डिमांड है तो क्या करें, लेकिन फिर भी बहुत बार ऐसे गानों से परहेज़ करती हूं.

कभी दौर था जब ‘लागी नाहीं छूटे रामा, जा जा रे सुगना जा जा’, ‘कही दे सजनवा’ से जैसे गाने बनते थे लेकिन आज वो सुनहरा दौर ख़त्म हो गया है. उसकी जगह अश्लीलता ने ले ली है लेकिन सरकार को इसे रोकने के लिए कड़े कदम उठाना बेहद ज़रूरी है तभी भोजपुरी फ़िल्मों की आत्मा और उसकी मधुरता को क़ायम रखा जा सकता है.

RELATED ARTICLES

भाजपा क्रीड़ा प्रकोष्ठ ने किया भाजपा के युवा राष्ट्रीय नेता ऋतुराज सिन्हा जी को सम्मानित

प्रधानमंत्री जी के दिशा निर्देश पर रक्षा मंत्रालय द्वारा एनसीसी के व्यापक समीक्षा हेतु बनाए गए 15 सदस्यीय टीम में शामिल किए...

आकाश यादव पहुंचे राघोपुर, बाढ़ में डूबे मृतक के परिजनों से की मुलाकात, LJP को नए सिरे से तैयार करने में जूटे

राघोपुर में पिछले दिनों मल्लिकपुर ग्राम निवासी रामशंकर की बाढ़ में डूबने से मौत हो गई थी। ऐसे में लोजपा छात्र...

पटना जिला क्रिकेट संघ भंग ! BCA अध्यक्ष राकेश तिवारी के खिलाफ मोर्चा, क्रिकेट एसोसिएशन से बाहर किए गए अजय नारायण शर्मा

बिहार में क्रिकेट को खात्मा के कगार पर पहुंचाने के बाद कुर्सी के लिए मारमारी लगातार तेज होती जा रही है. BCA...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सुशील मोदी ने नेत्रदानी परिवार का किया सम्मान

99 वर्षीय शोभा रानी भट्टाचार्जी के देहांत के पश्चात दधीचि देहदान समिति की पहल से परिवार ने नेत्रदान कराये जाने पर राज्य...

पूर्व सांसद स्व. राम नरेश कुशवाहा की पुण्यतिथि पर लखनऊ पहुंचे उपेंद्र कुशवाहा, दी श्रद्धांजलि

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जनता दल यूनाइटेड भी पूरी तरह से जुटी हुई है. पार्टी...

जानें जितिया व्रत का महत्व और कई जरूरी बातें

डॉ इंद्र बली मिश्रा काशी हिंदू विश्वविद्यालय हिंदू धर्म में कई व्रत-त्योहार मनाए जाते हैं। जिनमें...

भाजपा क्रीड़ा प्रकोष्ठ ने किया भाजपा के युवा राष्ट्रीय नेता ऋतुराज सिन्हा जी को सम्मानित

प्रधानमंत्री जी के दिशा निर्देश पर रक्षा मंत्रालय द्वारा एनसीसी के व्यापक समीक्षा हेतु बनाए गए 15 सदस्यीय टीम में शामिल किए...

Recent Comments