Home अभी-अभी भोजपुरी फिल्मों के हीरो और हीरोइन क्यों जाएंगे जेल? जानें क्‍या है...

भोजपुरी फिल्मों के हीरो और हीरोइन क्यों जाएंगे जेल? जानें क्‍या है पूरा माजरा

Desk: भाजपा विधायक विनय बिहारी ने ब‍िहार सरकार से कहा है क‍ि अगर भोजपुरी गानों से अश्लीलता खत्म करनी है, तो सरकार को वैसे भोजपुरी हीरो और हीरोइन के साथ-साथ जो भी इस तरह के अश्लील गाना बनाते या गाते है उन्हें तुरंत जेल भेज देना चाहिए.

बिहार विधानसभा में भाजपा के एक विधायक विनय बिहारी ने अजीब सी मांग बिहार सरकार से कर दी है. विनय बिहारी ने सरकार से कहा क‍ि बिहार सरकार ने अश्लील गानों के खि‍लाफ यह आदेश निकाला है क‍ि जो भी ऐसा करेंगे उनपर कार्रवाई होगी, लेकिन बावजूद इसके इसमें कोई रोक नही लग रही है. अगर भोजपुरी गानों से अश्लीलता खत्म करनी है, तो सरकार को वैसे भोजपुरी हीरो और हीरोइन के साथ-साथ जो भी इस तरह के अश्लील गाना बनाते या गाते है उन्हें तुरंत जेल भेज देना चाहिए. अगर दो-चार बड़े भोजपुरी स्टार को अश्लील गाना गाने पर जेल भेजा जाता है तो इस कदम से अश्लील गाना बनाने और गानेवालों में डर आएगा, जिसका सबसे बड़ा फ़ायदा भोजपुरी गानों और फि‍ल्मों को होगा.

विनय बिहारी कहते है क‍ि जब अंगिका, मैथिली, मगही जैसी भाषाओं में भी फि‍ल्में बनती है तो उसके गाने अश्लील क्यों नहीं बनते है. सिर्फ भोजपुरी गानों में ही अश्लीलता क्यूं होती है. मैं भी कलाकार हूं, फ़िल्मों में काम करता हूं, गाने भी लिखता और गाता हूं, लेकिन मैंने ना तो ऐसे गाने लिखे या फ़िल्मों में गाना गाया है. ब‍िहार सरकार से मै मांग करता हूं क‍ि भोजपुरी फ़िल्मों और बनने वाले गानों से अश्लीलता को खत्म किया जाएं और जो भी कड़े कदम उठाने हो उठाए ताकि भोजपुरी फ़िल्मों की मधुरता और खनक कायम रह सके.

लेकिन ऐसा करना इतना आसान नहीं है क्योंकि आज शायद ही कोई भी भोजपुरी फ़िल्में बनती है, जिसमें गानों से लेकर कहानी तक में अश्लीलता ना हो. भोजपुरी फ़िल्मों के बाज़ार में ऐसे ही गानों की मांग है जिसमें दो अर्थी शब्द और भाव हो. जानी-मानी भोजपुरी गायिका और संगीतकार ख़ुशबू उत्तम कहती है कि हमारे पास ऐसे ही गानों की फ़रमाइश आती है, जिसमें अश्लीलता भरी रहती है. कई बार तो ऐसे गाना गाने का मन भी नहीं करता है लेकिन इस इंडस्ट्री में ऐसे ही गाने का डिमांड है तो क्या करें, लेकिन फिर भी बहुत बार ऐसे गानों से परहेज़ करती हूं.

कभी दौर था जब ‘लागी नाहीं छूटे रामा, जा जा रे सुगना जा जा’, ‘कही दे सजनवा’ से जैसे गाने बनते थे लेकिन आज वो सुनहरा दौर ख़त्म हो गया है. उसकी जगह अश्लीलता ने ले ली है लेकिन सरकार को इसे रोकने के लिए कड़े कदम उठाना बेहद ज़रूरी है तभी भोजपुरी फ़िल्मों की आत्मा और उसकी मधुरता को क़ायम रखा जा सकता है.

RELATED ARTICLES

राष्ट्रपति चुनाव की मैनेजमेंट टीम का गठन, बिहार से ऋतुराज सिन्हा का नाम शामिल

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव ऋतूराज सिन्हा को राष्ट्रपति चुनाव की मैनेजमेंट टीम का सदस्य बनाया गया है, इस टीम में बिहार से...

सितम्बर में होगा ग्लोबल वेब मीडिया समिट, पटना में जुटेंगे देश- विदेश के वेब पत्रकार: आनंद कौशल

पटना। वेब पत्रकारों के पहले राष्ट्रीय रजिस्टर्ड संगठन वेब जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (WJAI) की राष्ट्रीय कार्यसमिति की विस्तारित बैठक शनिवार को...

बहुराष्ट्रीय कंपनी का एहसास दिला रहा पटना का वेस्टर कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट, छात्रों का मिलेगी सभी तरह की सुविधाएं

वेस्टर कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट अब पटना में है, जिसकी स्थापना डॉ विनोद कुमार सिन्हा के मार्गदर्शन में हुई थी।  डॉ सिन्हा भारत...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

राष्ट्रपति चुनाव की मैनेजमेंट टीम का गठन, बिहार से ऋतुराज सिन्हा का नाम शामिल

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव ऋतूराज सिन्हा को राष्ट्रपति चुनाव की मैनेजमेंट टीम का सदस्य बनाया गया है, इस टीम में बिहार से...

इंग्लैंड में रहकर भी नहीं भूले सभ्यता, विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल से की मास्टर्स की पढ़ाई

वेदांत वर्मा उर्फ़ यश वर्मा इंग्लैंड के तीसरे स्थान और विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल में मास्टर्स की पढ़ाई स्कॉलरशिप पर पूरी...

दर्जन भर युगल जोड़ियों के विवाहोत्सव के साथ संपन्न हुआ अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ

हिलसा अनुमंडल स्थित राधाकृष्ण मंदिर वृंदावन चौक पर पिछले 24 मई से प्रारंभ हुए अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ का शनिवार...

देश में बढ़ रही है कॉस्मेटिक ज्ञानेकोलॉजी की मांग, अब बिहार में भी उपलब्ध होगी यह सुविधा: डॉ नवनीत।

महिलाओं के दैनिक दिनचर्या, बढ़ती उम्र के साथ भिन्न भिन्न प्रकार के स्त्रितत्व सम्बंधित समस्याओं को अब नजरअंदाज नहीं करना पड़ेगा। महिलाओं...

Recent Comments