Home अन्य बड़ी खबरें बक्सर जिले के आमसारी गांव में गेंहू के खेत में लगी आग,...

बक्सर जिले के आमसारी गांव में गेंहू के खेत में लगी आग, मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड खराब, मुआवजा की कर रहें मांग

लाइव बिहार: बक्सर जिले में सैकड़ों किसान के आंखे आज आंसूयों से भर गए. एक छोटी सी बिजली की चिंगारी से हजारों एकड़ गेंहू के फसल जलकर राख हो गए. जिले के डुमरांव अनुमंडल के चौंगाई प्रखंड के आमसारी और मठिला गांव के सैकड़ों किसानों की सालों की मेहनत उनकी आंखों के सामने धु- धुकर जल गयी. आग से किसानों के खेतों में लगी पकी फसल पूरी तरह बर्बाद हो गई. इस घटना से पूरे गांव में सन्नाटा पसर गया है. सभी किसानों का रो-रोकर बुरा हाल है. अब तो उनके सामने ‘एक दिन की रोटी’ भी कैसे मिलेगी इसकी चिंता सताने लगी है.

पूरे घटना क्रम की बात करें तो जिले के आमसारी गांव के बधार में हजारों एकड़ में लगी गेंहू की फसल तैयार थी. किसान अब फसल को काटकर अपने घर पर लाने की तैयारी में थे. इसी बीच खेतों से ऊपर गुजर रही हाईटेशन तार से गिरी चिंगारी ने किसानों के सपनों को धु-धुकर जला दिया. हालांकि की मौके पर दमकल की चार गाड़ियां पहुंची, लेकिन नाकाफी रहा. मौके पर पहुंची गाड़ियों में किसी में पानी ही नहीं था तो कोई खराब था. किसान अपने स्तर से आग पर काबू पाने की प्रयास करते रहें, लेकिन आग इतनी भयावह थी कि देखते ही देखते हजारों एकड़ में लगी फसल जलकर खाक हो गयी. मौके पर जिलापरिषद और एसडीओ पहुंचे और उन्होंने किसानों को संतावना दिया है. जल्द- से जल्द मुआवजा मिल जाएंगा. ये देखने वाली बात हैं कि क्या सच में किसानों को मुआवजा मिलता है या नहीं या सिर्फ वादा ही किया गया है.

पीड़ित किसान राजेश्वर सिंह और रामकृष्ण सिंह की माने तो इस अगलगी से सबकुछ बर्बाद करके रख दिया. उन्होने अपनी बेटी की शादी इसी आस में तय कर रखी थी. खेतों में लगी गेंहू की फसल बेच कर उस रकम में बेटी की शादी बड़े ही धुमधाम से करूंगा. लेकिन अब ऐसा संभंव नहीं हो सका. उन्होंने यह भी कहा कि अब तो उनके और उनके परिवार के सामने खाने की समस्या उत्पन्न हो गयी है.

वहीं गांव के सैकड़ों किसान कि सिसकिया रूकने का नाम नहीं ले रहा है. किसान रामकृष्ण सिंह, राजेश्वर सिंह, रमेश सिंह उर्फ लंगड़ सिंह, अंटु सिंह, हरेंद्र सिंह, धमेंद्र सिंह, ललित सिंह, मोहन जी सिंह, अक्षयवर सिंह, पप्पू पाठक, अटल सिंह, गणेश सिंह, पप्पू सिंह, बरमेश्वर चौधरी, विश्वामित्र चौधरी, अनिल सिंह, मार्कंडेय सिंह, अमिरा चौधरी, सुरेश चौधरी, रमेश चौधरी समेत गांव के सैकड़ों किसानों की फसल जलकर राख हो गयी है. किसानों की माने तो करीब करोड़ों की फसल जलकर राख हो गई. सभी की निगाहे अब सरकार की ओर टिकी है. गांव के सभी किसान सरकार से मुआवजे की मांग कर रहे हैं.

RELATED ARTICLES

Goal Institute ने दरभंगा जोन में जी.टी.एस.ई. के सफ़ल छात्रों को किया सम्मानित

Desk: दरभंगा जोन में 7वीं, 8वीं, 9वीं, 10वीं, 11वीं एवं 12वीं क्लास में पढ़ रहे बच्चों लिए गोल इन्स्टीच्यूट द्वारा आयोजित गोल...

सीएम नीतीश को अपने ही विधायक ने धो दिया, कहा- बिहार में कोई ऐसा पुलिस अधिकारी नहीं है जो शराब नहीं पीता

रिपोर्ट- अतीश दीपंकर, भागलपुर: अपने  बोल के कारण हमेशा सुर्खियों में रहने वाले गोपाल मंडल सुशासन की पुलिस को लेकर बड़ा बयान...

कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते ब‍िहार सरकार का बड़ा फैसला, 5 अप्रैल तक सभी छुट्टियां रद्द

Desk: बिहार में तेज रफ्तार से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने बड़ा फैसला लिया है और अब...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कोरोना मरीजों के लिए मसीहा बनकर सामने आया बिहार छात्र संसद

Patna: बिहार की राजधानी पटना में कोरोना के दौरान कई लोग मरीजों के लिए मसीहा बनकर सामने आए हैं। कोई लोगों को...

पटना में दो परिवारों के बीच हुई खूनी झड़प, बोरिंग की पाइप को लेकर चल रहा था विवाद

Patna: पटना के खगौल में दो परिवारों के बीच के विवाद ने खूनी रूप ले लिया। एक परिवार के लोगों ने दूसरे...

24 अप्रैल को TSUNSS करेगा राज्यव्यापी प्रोटेस्ट, शिक्षकों को वेतन नहीं मिलने को लेकर करेंगे प्रदर्शन

Patna: सूबे के लाखों शिक्षकों का तीन माह से वेतन लंबित है . कोरोनाकाल में शिक्षकों से मल्टीटास्किग स्टाफ वाला काम लिया...

कोरोनाकाल में भी शिक्षकों के वेतन के प्रति सरकार लापरवाह

Desk: सूबे के सर्वशिक्षा मद से वेतन पानेवाले लाखों शिक्षकों का तीन माह से वेतन लंबित है | कोरोनाकाल में शिक्षकों से...

Recent Comments