Home अभी-अभी उपेन्द्र कुशवाहा को बड़ा झटका, राष्ट्रीय महासचिव माधव आनंद ने पार्टी से...

उपेन्द्र कुशवाहा को बड़ा झटका, राष्ट्रीय महासचिव माधव आनंद ने पार्टी से दिया इस्तीफा

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

पटना… बिहार विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही महागठबंधन में मुश्किलों का दौर भी शुरू हो गया है. पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के बाद रालोसपा (RLSP) भी पार्टी से अलग हो गया. रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने नया गठबंधन तैयार किया है. उन्होंने बसपा के साथ गठबंधन का किया एलान किया है इसमें जनवादी पार्टी सोशलिस्ट पार्टी भी शामिल हुआ है. अब चुनावी पिच में एक और बड़ा उलटफेर होने की संभावना बनती दिख रही है. सूत्रों की मानें तो रालोसपा के प्रधान महासचिव माधव आनंद के आरजेडी में जाने की अटकलें तेज हो गई है. राबड़ी देवी के सरकारी बंगले में तेजस्वी यादव मुलाकात हुई है.

जानकारी के मुताबिक, महागठबंधन से नाता तोड़ने के बाद भी रालोसपा के प्रधान महासचिव माधव आनंद तेजस्वी यादव से मिलने पहुंचे. राबड़ी देवी के सरकारी बंगले में दोनों की मुलाकात हुई है. ये मुलाकात करीब 5 घंटे तक चली. सूत्रों की मानें तो माधव आनंद आरजेडी जाने की तैयारी में हैं. माधव आनंद अपने लिए आरजेडी में जगह तलाश रहे हैं, इसलिए ये गुपचुप हुई है. हालांकि न्यूज 18 का कैमरा देखते माधव आनंद मुंह फेरने की कोशिश करने लगे. मुलाकात पर सवाल पूछने पर उन्होंने कहा, पुरानी जान पहचान है, इसलिए मिलने आए थे.

सभी 243 सीटों में चुनाव लड़ने का ऐलान

उपेन्द्र कुशवाहा ने बसपा के साथ सभी 243 सीटों पर चुनाव लड़ने का भी ऐलान किया. उन्होंने चिराग को भी न्योता दिया और कहा कि इस गठबंधन में जो आना चाहें सबका स्वागत है. रालोसपा में मची भगदड़ पर उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि हमने अपनी नाव मंझधार से निकाल ली है, लेकिन जो कमजोर दिल वाले हैं वो उतरकर भाग रहे हैं. कुशवाहा ने लालू-राबड़ी शासनकाल पर भी हमला बोलते हुए कहा कि लालू राज में लोग दोनों हाथों से पैसे बटोरते थे. पैसे के बिना कोई कम नहीं होता था. नीतीश कुमार भी पुराने 15 साल की तरह काम कर रही और बिहार में दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि लालू के समय में शिक्षा व्यवस्था कैसी थी इससे समझ सकते हैं कि वे अपने दोनों बेटों को मैट्रिक भी पास नहीं करवा पाए.

रालोसपा के नेता को तेजस्वी ने रातोंरात पार्टी में किया शामिल

एक तरफ जहां उपेंद्र कुशवाहा को टिकट को लेकर कोई आश्वासन नहीं मिल रहा है, वहीं उपेंद्र कुशवाहा के ही दल के नेताओं को तेजस्वी ने रातों-रात अपने पार्टी में शामिल कर लिया है. इससे उपेंद्र कुशवाहा काफी नाराज बताए जा रहे हैं. गौरतलब है कि रालोसपा युवा के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मोहम्मद कामरान को मंगलवार देर रात तेजस्वी नहीं अपनी पार्टी की सदस्यता दिलाई जिससे कुशवाहा बढ़ते हुए बताए जाते हैं. माना जा रहा है कि आरजेडी ने उपेंद्र कुशवाहा की ही पार्टी में सेंध लगा दी है.

RELATED ARTICLES

बिहार बोर्ड ने इंटर परीक्षा का रिजल्ट किया जारी, जानें किस जिले से बने टॉपर, बेटियों ने फिर मारी बाजी

पटनाः बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (BSEB) के अध्यक्ष आनंद किशोर ने इंटमीडिएट परीक्षा का रिजल्ट जारी किया है। तीनों संकाय में टॉपरों...

मुंबई ने खत्म किया 8 साल का सूखा, विदर्भ को हराकर मुंबई रिकॉर्ड 42वीं बार बना चैंपियन, अक्षय वाडेकर नहीं कर सके करिश्मा

पटना डेस्कः ऐतिहासिक वानखेड़े स्टेडियम में न केवल एक और गजब की फाइनल फाइट देखने को मिली, बल्कि जब मुंबई 42वीं बार...

राष्ट्रपति के पद से हटने के बाद महामहिम द्रौपदी मुर्मू क्या करेंगी ? बिहार में आकर खुद बता दी, जानिए

पटनाः बिहार में चौथे कृषि रोड मैप 2023 की शुरुआत हो गई है। पटना के बापू सभागार में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

भाजपा बिहार से डर गई है, मोदी-शाह के दौरे पर बोले तेजस्वी-आने से कुछ नहीं होगा..लोकसभा में हारना तय है

पटनाः बिहार में लोकसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां चरम पर पहुंच गई हैं। अपनी जीत को सुनिश्चित करने के लिए पक्ष और...

सक्षमता परीक्षा पास कर चुके शिक्षकों के लिए स्कूल आवंटन शुरु, जान लीजिए क्या है प्रक्रिया ? एकदम आसान हो गया..

पटनाः सक्षमता परीक्षा उत्तीर्ण होने वाले बिहार के नियोजित शिक्षकों की तैनाती के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई ह। शिक्षकों का पदस्थापना...

नवादा की रैली में मोदी का विपक्ष पर बड़ा हमला, बोले-मौज करने के लिए पैदा नहीं हुआ है, मेहनत करने के लिए जन्मा है

पटना डेस्कः नवादा में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा...

भारत दुनिया की शीर्ष तीन सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनने का देख रहा ख्वाब, सहकारी आंदोलन की बड़ी भूमिका 

अगर भारत दुनिया की शीर्ष तीन सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनने की ओर तेजी से बढ़ रहा है, तो इसमें सहकारी आंदोलन...

Recent Comments