Home राज्य महिला टीचर से छेड़खानी मामला, प्रधानमंत्री कार्यालय ने मांगा जवाब, दबंग पार्षद...

महिला टीचर से छेड़खानी मामला, प्रधानमंत्री कार्यालय ने मांगा जवाब, दबंग पार्षद पति पर क्या होगी कार्रवाई?

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

बिहार की राजधानी पटना में एक दबंग वार्ड पार्षद द्वारा महिला टीचर से छेड़छाड़ करने का मामला अब देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पास पहुंच गया है। पटना के गर्दनीबाग इलाके में महिला स्कूल टीचर संगं छेडखानी और बदसलूकी वाले इस मामले को लेकर अब प्रधानमंत्री कार्यालय ने बिहार के मुख्य सचिव से जवाब तलब किया है और इस पूरे मामले की जांच रिपोर्ट मांगी है। पीएमओ से बिहार के मुख्य सचिव को पत्र भेज कर इस बारे में सारी जानकारी भेजने को कहा है।

क्या है पूरा मामला

जानकारी के अनुसार पटना के गर्दनीबाग इलाके का ये मामला करीब 4 महिने पूराना है। इस पूरे मामले में नेता पर पटना पुलिस की मेहरबानी साफ दिखती है। गर्दनीबाग के बाहुबली माने जाने वाले वार्ड पार्षद पति के खिलाफ केस दर्ज तो हुआ लेकिन पूरे मामले में पुलिस ने बिना देरी करते हुए बाहुबली नेता को क्लीन चिट भी दे दी। इस पूरे मामले में अब दबंग वार्ड पार्षद पति पीड़ित शिक्षिकाओं पर केस दर्ज कराने की धमकी दे रहा है।

दरअसल मामला जुलाई महीने का है। गर्दनीबाग साधनापुरी के एक गर्ल्स स्कूल की महिला शिक्षिका ने गर्दनीबाग थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी। इसमें स्थानीय वार्ड पार्षद श्वेता राय के पति अविनाश कुमार उर्फ मंटू पर कई गंभीर आरोप लगाये गये थे. महिला शिक्षिकाओं ने आरोप लगाया था कि दबंद मंटू अपने साथियों के साथ लगातार छेड़खानी कर रहा है. एक महिला शिक्षिका ने विरोध किया तो उसके निजी अंगों को सरेआम छेड़छाड़ किया गया. प्राथमिकी में अविनाश कुमार मंटू के साथ साथ उसकी वार्ड पार्षद पत्नी श्वेता राय को भी अभियुक्त बनाया गया था।

नहीं की कोई कार्रवाई

इस पूरे मामले को लेकर पीड़ित महिला शिक्षिका ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने आरोपियों को बचाने के लिए पूरी कोशिश की। वहीं इस बारे में गर्दनीबाग पुलिस ने मीडिया को ये बताया कि उसने सीसीटीवी फुटेज देखा है और उसमें कहीं छेडखानी की बात सामने नहीं आई। लेकिन दिलचस्प बात ये है कि एफआईआर में कहीं उस जगह का ही उल्लेख नहीं था जहां छेडखानी होने की बात पीड़ित द्वारा कही गई है। गर्दनीबाग पुलिस की माने तो पूरा मामला मामला साढ़े तीन कट्ठा जमीन का है. इसलिए अविनाश कुमार मंटू को फंसाया जा रहा है। लेकिन पुलिस ये नहीं बता पाई कि आरोप लगाने वाली शिक्षिका का जमीन से क्या संबंध है।

बताते चलें कि इस पूरे मामले को लेकर अब प्रधानमंत्री कार्यालय ने संज्ञान लिया है। पीड़िता ने पटना पुलिस के कारनामों से त्रस्त होकर प्रधानमंत्री कार्यालय को पत्र लिखा था, जिसपर पीएमओ ने संज्ञान लिया है।

RELATED ARTICLES

राजस्थान की कलात्मक विरासत को सहेजती महिलाएं

शेफाली मार्टिन्स जयपुर, राजस्थानराजस्थान के विभिन्न हस्तशिल्प कलाओं में लाख की चूड़ियां अन्य आभूषणों से बहुत पहले से मौजूद थी. वैदिक युग...

इंग्लैंड में रहकर भी नहीं भूले सभ्यता, विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल से की मास्टर्स की पढ़ाई

वेदांत वर्मा उर्फ़ यश वर्मा इंग्लैंड के तीसरे स्थान और विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल में मास्टर्स की पढ़ाई स्कॉलरशिप पर पूरी...

दर्जन भर युगल जोड़ियों के विवाहोत्सव के साथ संपन्न हुआ अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ

हिलसा अनुमंडल स्थित राधाकृष्ण मंदिर वृंदावन चौक पर पिछले 24 मई से प्रारंभ हुए अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ का शनिवार...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

लोकसभा चुनाव की घोषणा अगले हफ्तों के अन्दर, यूपी को छोड़कर देश के सभी राज्यों की सीटों के लिए कांटे की टक्कर

अब कुछ हफ्तों के बाद ही देश में लोकसभा चुनावों की घोषणा हो जाएगी। पर उत्तर प्रदेश (यूपी) को छोड़कर देश के...

सक्षमता परीक्षा देकर बाहर निकले शिक्षक, बोले-सवाल बहुत मुश्किल था, एग्जाम से पहले जूता-मोजा निकलवाया गया

पटनाः बिहार बोर्ड की तरफ से ली जा रही सक्षमता परीक्षा की शुरुआत हो गई है। पहले दिन शिक्षकों ने परीक्षा के...

जीतनराम मांझी ने RJD नेता तेजस्वी यादव पर जमकर बरसे, बोले-नौकरी और रोजगार सिर्फ CM नीतीश ने दिया

पटना डेस्कः बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हम पार्टी के संरक्षक जीतनराम मांझी ने राजद नेता तेतस्वी यादव के जन विश्वास यात्रा...

कैमूर हादसे पर CM नीतीश ने जताया दुःख, सभी लोगों की हो गई शिनाख्त, परिवार में मातम का माहौल

पटना डेस्कः बिहार के कैमूर जिला में एक बड़ी घटना घटी है, जिसमें 9 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई है। दरअसल...

Recent Comments