Home राज्य खगड़िया: NH 31 पर लकड़ी के चूल्हे पर रोटी सेंककर और गले...

खगड़िया: NH 31 पर लकड़ी के चूल्हे पर रोटी सेंककर और गले में रोटी की माला पहनकर कृषि कानून का जमकर विरोध

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

मधेपुरा जिले में भारत बंद का व्यापक असर देखने को मिला. वहीं विपक्षी पार्ट के नेता अनोखे अंदाज में प्रदर्शन करते नजर आये. एक तरफ बंद समर्थक केंद्र सरकार द्वारा लाये गए नए कृषि कानूनों के विरोध में गाना गाते नजर आये वहीं दूसरी तरफ राजद नेता सड़क पर लाठी लेकर प्रदर्शन करते नजर आये.

बंद समर्थकों ने सड़क जाम करने की कोशिश की और साथ ही केंद्र सरकार के खिलाफ खूब नारेबाजी की. प्रदर्शनकारी ने तीनों नए कृषि कानूनों को काला कानून बताते हुए सड़क पर आगजनी भी की.

खगड़िया में भारत बंद को लेकर बिहार किसान मंच के प्रदेश अध्य्क्ष ने NH 31 पर लकड़ी के चूल्हे पर रोटी सेंककर और गले में रोटी की माला पहनकर अनोखे तरीके से भारत बंद कार्यक्रम में भाग लिया। कृषि कानून के विरोध प्रदर्शन के दौरान भारत बंद को लेकर उन्होंने कहा 9 दिसंबर को यदि सरकार से सकारात्मक वार्ता नहीं होती है तो अनिश्चितकालीन आंदोलन चलेगा। वे सड़क पर ही रोटी बनाकर खाएंगे और आंदोलन को साथ देने वाले को खिलाएंगे। इसके लिए सतुआ चिकस लेकर दिल्ली कूच की भी बात कही।

पूर्णिया में नए कृषि कानून के विरोध में भारत बंद के आह्वान का पूर्णिया में भी मिला जुला असर है। गांव से लेकर शहर तक बंद का असर दिख रहा है। बसें और ऑटो रिक्शा बंद हैं। इससे आवागमन प्रभावित हैं। मुख्य बाजारों में भी दुकानें पूरी तरह से बंद हैं। बंद को विपक्षी दलों का भी समर्थन है। सभी विपक्षी दलों के नेता भी सड़कों पर उतर आए हैं।

किसान बिल के विरोध में भागलपुर में भी महागठबंधन ने शहरी क्षेत्र को बंद कराया। सुबह से कई दलों के लोग जुलूस निकालते हुए अलग-अलग सड़कों पर घूमते रहे और मुख्य रूप से स्टेशन चौक पर प्रदर्शन किया। महागठबंधन के पांचों घटक दल राजद कांग्रेस भाकपा माले, भाकपा, माकपा सहित अन्य कई संगठनों ने बंद में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

विभिन्न संगठन कभी अलग-अलग तो कहीं एक होकर बंद कराते दिखे। मुख्य रूप से ये लोग बाजार को बंद करा रहे थे। खलीफाबाग चौक पर भी इन लोगों ने बैरिकेडिंग कर दी थी ताकि गाड़ियां आ जा ना सके। मुख्य बाजार के दुकानदारों ने सुबह से अपनी दुकान तोड़फोड़ के डर से नहीं खोले। हालांकि किसी भी पार्टी के समर्थकों ने कहीं तोड़फोड़ नहीं की।

RELATED ARTICLES

राजस्थान की कलात्मक विरासत को सहेजती महिलाएं

शेफाली मार्टिन्स जयपुर, राजस्थानराजस्थान के विभिन्न हस्तशिल्प कलाओं में लाख की चूड़ियां अन्य आभूषणों से बहुत पहले से मौजूद थी. वैदिक युग...

इंग्लैंड में रहकर भी नहीं भूले सभ्यता, विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल से की मास्टर्स की पढ़ाई

वेदांत वर्मा उर्फ़ यश वर्मा इंग्लैंड के तीसरे स्थान और विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल में मास्टर्स की पढ़ाई स्कॉलरशिप पर पूरी...

दर्जन भर युगल जोड़ियों के विवाहोत्सव के साथ संपन्न हुआ अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ

हिलसा अनुमंडल स्थित राधाकृष्ण मंदिर वृंदावन चौक पर पिछले 24 मई से प्रारंभ हुए अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ का शनिवार...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

लोकसभा चुनाव की घोषणा अगले हफ्तों के अन्दर, यूपी को छोड़कर देश के सभी राज्यों की सीटों के लिए कांटे की टक्कर

अब कुछ हफ्तों के बाद ही देश में लोकसभा चुनावों की घोषणा हो जाएगी। पर उत्तर प्रदेश (यूपी) को छोड़कर देश के...

सक्षमता परीक्षा देकर बाहर निकले शिक्षक, बोले-सवाल बहुत मुश्किल था, एग्जाम से पहले जूता-मोजा निकलवाया गया

पटनाः बिहार बोर्ड की तरफ से ली जा रही सक्षमता परीक्षा की शुरुआत हो गई है। पहले दिन शिक्षकों ने परीक्षा के...

जीतनराम मांझी ने RJD नेता तेजस्वी यादव पर जमकर बरसे, बोले-नौकरी और रोजगार सिर्फ CM नीतीश ने दिया

पटना डेस्कः बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हम पार्टी के संरक्षक जीतनराम मांझी ने राजद नेता तेतस्वी यादव के जन विश्वास यात्रा...

कैमूर हादसे पर CM नीतीश ने जताया दुःख, सभी लोगों की हो गई शिनाख्त, परिवार में मातम का माहौल

पटना डेस्कः बिहार के कैमूर जिला में एक बड़ी घटना घटी है, जिसमें 9 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई है। दरअसल...

Recent Comments