Home जिला अगले दो दिनों में यदि गाड़ी में नहीं लगाया फास्टैग तो बिहार...

अगले दो दिनों में यदि गाड़ी में नहीं लगाया फास्टैग तो बिहार में लगेगा डबल चार्ज, जानिये क्या है वजह

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

Patna: दीदारगंज टॉल प्लाजा से पिछले पांच दिनों में औसतन 19058 गाड़ियां हर दिन गुजरी. इनमें से केवल 41.2 फीसदी वाहनों में ही फास्टैग लगे थे और 58.8 फीसदी वाहनों ने बिना फास्ट टैग के ही टॉल का नकद भुगतान कर टॉल प्लाजा पार किया.

अगले दो दिनों में यदि ऐसे वाहन मालिकों ने अपने वाहन में फास्ट टैग नहीं लगवाया तो कैश पेमेंट पर डबल चार्ज देना होगा.

यह नियम पूरे देश के लिए बनाया गया है, लेकिन पटना और प्रदेश के अन्य हिस्सों के वाहनों में फास्टैग के अब तक के कम प्रचलन की वजह से यह प्रावधान अगले कुछ दिनों तक इस क्षेत्र के वाहन मालिक में परेशानी की वजह बना रहेगा.

नयी गाड़ियों के साथ लग कर आ रहा फास्टैग
फास्टैग अब हर तरह के नये चारपहिया या उससे अधिक चक्कों वाले वाहनों के साथ लग कर ही आ रहा है. इसमें 500 रुपये का प्रीपेड रिचार्ज भी रहता है, जिसका अलग से ग्राहकों से पैसा नहीं लिया जाता है बल्कि यह वाहन के मूल्य में ही संलग्न रहता है.

उपभोक्ता चाहे तो इसे पोस्ट पेड भी करा सकता है. ऐसा होने पर ग्राहक के अकाउंट से बैंक अपने आप पैसा काट लेता है. फास्ट टैग लगाने का काम बैंकों का है.

वह टैग लगाने का कोई शुल्क नहीं लेता है केवल रिचार्ज करने के लिए पैसे लेेता है. इसलिए जिस बैंक में अकाउंट हो उसी से फास्टैग लगवाना चाहिए.

छह में केवल एक लेन कैश लेनदेन के लिए
दीदारगंज टॉल प्लाजा में छह लेन हैं. इनमें केवल एक लेन कैश लेनदेन के लिए है, बाकी पांच लेन में फास्टैग वाले गाड़ियों का आना-जाना हो रहा है.

20 किमी की गति से निकल सकेंगे वाहन
फास्टैग वाले वाहनों को टॉल प्लाजा पर रुकने की जरूरत नहीं पड़ेगी. बल्कि बूम बैरियर पर आगे वाले वाहन से 20 फुट की दूरी बनाकर यदि ये निकलते हैं तो 20 किमी तक की गति होने पर भी इनके फास्टैग को टॉल प्लाजा पर लगे टैग रीडर पढ़ लेंगे और उन्हें निकलने का रास्ता मिल जायेगा.

इससे हर वाहन का कम से कम एक मिनट का समय बचेगा जो कि टॉल प्लाजा पर रुक कर कैश देने और रसीद लेने में लगता था. इससे टॉल प्लाजा पर गाड़ियों की कतार भी नहीं लगेगी क्योंकि फास्टैग रीडिंग के आधार पर पांच मिनट में 100 गाड़ियां निकल सकती हैं, जबकि कैश लेने देने में इतने वाहनों को गुजरने में कम से कम 100 मिनट लगता है.

RELATED ARTICLES

महिलाओं को स्वावलंबन बनाने के लिए हीतार्थ फाउंडेशन कर रही काम

स्थानीय महेंद्रू कमला देवी स्थान स्थित शारदा सदन में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह कार्यकर्म संस्था की ओर सेनेटरी नैपकिन...

आवास योजना में सामने आई बड़ी गड़बड़ी, एक ही परिवार के चार लाेगों को आवंटित किया गया आवास

Desk: गरीब परिवारों को घर बनाने के लिए मदद देने वाली योजना में बड़ी गड़बड़ी की खबर है। यह खबर है बिहार...

बिहार में बढ़ा इलेक्ट्रिक वाहनों का क्रेज, शो रूम से बाइक और ई-साइकिल आउट ऑफ स्टॉक

Desk: बिहार के सीएम नीतीश कुमार का अभियान अब तेजी से रंग लाने लगा है. लोगों को इलेक्ट्रिक कार (Electric Car) के...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रेल बजट- सफर सुहावना करने का वादा

आर.के. सिन्हा केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा 45 लाख करोड़ का 2023-24 का बजट तो यही संकेत दे...

दो वर्षों में भारत ने विकसित किए चार स्वदेशी कोविड-19 टीके

नई दिल्ली, 31 जनवरी (इंडिया साइंस वायर): भारत के वैज्ञानिकों को दो वर्षों के कालखंड में कोविड-19 के चार स्वदेशी टीके विकसित...

देसी नस्ल की गायों के ड्राफ्ट जीनोम का खुलासा

नई दिल्ली, 30 जनवरी (इंडिया साइंस वायर): इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च (आईआईएसईआर), भोपाल के शोधकर्ताओं ने भारतीय गाय की...

बदहाली का जीवन जीने को विवश है गाड़िया लोहार समुदाय

देवेन्द्रराज सुथार जालोर, राजस्थान 'न हो कमीज़ तो पांव से पेट ढक लेंगे, ये लोग कितने मुनासिब हैं...

Recent Comments