Home राज्य ददन पहलवान का जदयू से कट सकता हैं टिकट, वशिष्ठ नारायण सिंह...

ददन पहलवान का जदयू से कट सकता हैं टिकट, वशिष्ठ नारायण सिंह भी काम नहीं आ सके

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

लाइव बिहार: बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों का एलान जब से हुआ है कई नेताओं का टिकट लग गया है तो वहीं कई बड़े नेताओं का टिकट भी काट गया है. टिकट कटने वाले नेताओं में अब एक बड़ा नाम ददन पहलवान का भी जुड़ गया है. जी हां, खबरे आ रही हैं कि इस बार के चुनाव में जदयू की ओर से उनका टिकट काट गया है. लेकिन ददन पहलवान पहलवान भी ठहरे नहीं, उन्होंने ने भी निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पर्चा भरने का मन बना लिया है.

बताया जा रहा है की उनका टिकट पहले कन्फर्म था. खुद जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह उनके लिए पैरवी कर रहे थे. लेकिन इसके बाद भी अब उनकी बात बनते नहीं दिख रही है और खबर है कि उन्हें जदयू की ओर से टिकट नहीं मिला है. ऐसे में चुनव की तैयारी में जुटे ददन पहलवान ने भी निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर पर्चा भरने का मन बना लिया है. वे 6 तारीख को डुमरांव सीट से पर्चा भरेंगे.

बता दें कि ददन पहलवान डुमरांव विधानसभा क्षेत्र से कई सालों से चुनाव जीतते आ रहे हैं उन्होंने 2000 से 2005 और फिर 2015 में इस सीट से विधायक रहे हैं. 2015 विधानसभा में वे भारी मतों से विजय प्राप्त किया था.

कौन हैं ददन पहलवान
ददन पहलवान भी यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की तरह पहलवानी से राजनीति में आय हैं. ददन पहलवान 2010 तक ददन सिंह कहलाते थे, उसके बाद ददन यादव हो गए. क्योंकि चुनाव आने वाले थे. यादव बिहार में लगभग 14 प्रतिशत हैं और सबसे बड़ा जाति समूह है. वे 2004 में वीर लोरिक की 56 फीट ऊंची पीतल की मूर्ति अपने घर में लगवाने के लिए भी चर्चा में आए थे. बता दें कि किसी खास दल से उन्हें विशेष प्रेम नहीं रहा है, न ही द्वेष रहा है. 2014 में उधार के पैसों से चुनाव लड़ते वक़्त वे ‘बहन’ मायावती के हाथी पर सवार थे. और उससे पहले मुलायम सिंह की साइकिल पर. लेकिन पत्नी के नाम से उधार लिया पैसा काम न आया और पहलवान जी चुनाव हार गए. फिर उन्होंने विधायकी के चक्कर में नीतीश कुमार के जेडीयू का तीर पकड़ लिया.

RELATED ARTICLES

राजस्थान की कलात्मक विरासत को सहेजती महिलाएं

शेफाली मार्टिन्स जयपुर, राजस्थानराजस्थान के विभिन्न हस्तशिल्प कलाओं में लाख की चूड़ियां अन्य आभूषणों से बहुत पहले से मौजूद थी. वैदिक युग...

इंग्लैंड में रहकर भी नहीं भूले सभ्यता, विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल से की मास्टर्स की पढ़ाई

वेदांत वर्मा उर्फ़ यश वर्मा इंग्लैंड के तीसरे स्थान और विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल में मास्टर्स की पढ़ाई स्कॉलरशिप पर पूरी...

दर्जन भर युगल जोड़ियों के विवाहोत्सव के साथ संपन्न हुआ अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ

हिलसा अनुमंडल स्थित राधाकृष्ण मंदिर वृंदावन चौक पर पिछले 24 मई से प्रारंभ हुए अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ का शनिवार...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

लोकसभा चुनाव की घोषणा अगले हफ्तों के अन्दर, यूपी को छोड़कर देश के सभी राज्यों की सीटों के लिए कांटे की टक्कर

अब कुछ हफ्तों के बाद ही देश में लोकसभा चुनावों की घोषणा हो जाएगी। पर उत्तर प्रदेश (यूपी) को छोड़कर देश के...

सक्षमता परीक्षा देकर बाहर निकले शिक्षक, बोले-सवाल बहुत मुश्किल था, एग्जाम से पहले जूता-मोजा निकलवाया गया

पटनाः बिहार बोर्ड की तरफ से ली जा रही सक्षमता परीक्षा की शुरुआत हो गई है। पहले दिन शिक्षकों ने परीक्षा के...

जीतनराम मांझी ने RJD नेता तेजस्वी यादव पर जमकर बरसे, बोले-नौकरी और रोजगार सिर्फ CM नीतीश ने दिया

पटना डेस्कः बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हम पार्टी के संरक्षक जीतनराम मांझी ने राजद नेता तेतस्वी यादव के जन विश्वास यात्रा...

कैमूर हादसे पर CM नीतीश ने जताया दुःख, सभी लोगों की हो गई शिनाख्त, परिवार में मातम का माहौल

पटना डेस्कः बिहार के कैमूर जिला में एक बड़ी घटना घटी है, जिसमें 9 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई है। दरअसल...

Recent Comments