Home राज्य आरा की बेटी चुलबुल के लिए मसीहा बने सोनू सूद, पेट का...

आरा की बेटी चुलबुल के लिए मसीहा बने सोनू सूद, पेट का ऑपरेशन कराकर दी नई जिंदगी

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों के लिए मसीहा बने बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद बिहार के आरा की रहने वाली एक छात्रा और उसके परिवार के लिए भी भगवान बन गए हैं. लॉकडाउन खत्म हो जाने के बाद आज भी तमाम जरूरतमंदों के लिए सोनू सूद और उनकी टीम काम कर रही है. लोग उनसे ट्विटर पर मदद की गुहार लगा रहे हैं और वो भी आगे आकर लोगों की मदद कर रहे हैं.

ताजा मामला आरा शहर के नवादा थाना क्षेत्र में करमन टोला का है, जहां के रहने वाले उमाशंकर सहाय की बेटी दिव्या सहाय उर्फ चुलबुल लगभग 2 साल से पेट की गंभीर बीमारी से पीड़ित थी. उचित समय पर इलाज नहीं होने के कारण चुलबुल की बीमारी कैंसर जैसे लाइलाज रोग का रूप धारण कर लेती. दरअसल 31 मार्च को दिल्ली एम्स में चुलबुल का ऑपरेशन होने वाला था, लेकिन मार्च में संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा होने के बाद उसका ऑपरेशन स्थगित हो गया. ऐसी विकट परिस्थिति में चुलबुल की बीमारी और बढ़ गई और दिन-रात वो पेट दर्द से कराहने लगी.

चुलबुल की तकलीफ को देखते हुए उसकी बहन नेहा ने ट्वीट कर बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद से मदद की गुहार लगाई. नेहा ने ट्वीट में लिखा कि “सोनू सर, कृप्या मेरी मदद कीजिये. मेरी बहन का ऑपरेशन कराना बहुत जरूरी है. ऑपरेशन के लिए दिल्ली एम्स में तारीख मिली थी, लेकिन लॉकडाउन के कारण समय पर ऑपरेशन नहीं हो पाया. कृप्या आप दिल्ली एम्स में ऑपरेशन के लिए नया डेट दिला दीजिये. और कुछ नहीं चाहिए. मेरी बहन बहुत दर्द में है. सर्जरी की जरूरत है, नहीं तो उसे कैंसर हो जायेगा. प्लीज सर हेल्प मी.”

नेहा के ट्वीट पर बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने लिखा कि “आपकी बहन हमारी बहन. उनका हॉस्पिटल में इंतजाम करवा दिया गया है. उन्हें ठीक करवाने का जिम्मा मेरा.” सोनू के इस ट्वीट से पूरे परिवार में उम्मीद की एक नई किरण जगी. आखिरकार सोनू सूद की पहल पर ऋषिकेश एम्स में दिव्या सहाय का ऑपरेशन संभव हो सका, जिससे उसकी जान बच पाई.

चुलबुल की जान बचाने के लिए उसके परिवार वाले सोनू सूद और उनकी टीम का सुक्रिया अदा कर रहे हैं. नेहा ने सोनू सूद के ट्विटर पर एक वीडियो डाला है, जिसमें उसने सोनू सूद को मदद के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि जब दिल्ली एम्स में तारीख नहीं मिल पाने की वजह से और एम्स का चक्कर लगाते-लगाते थक जाने के बाद पूरा परिवार परेशान था. ऐसी स्थिति में हमने आप से मदद मांगी और आप ने हमारी पूरी मदद की, जिससे हमारी बहन की सफल सर्जरी हो सकी. नेहा ने ऋषिकेश एम्स के सभी डॉक्टर और स्टाफ के व्यवहार की भी तारीफ की है.

RELATED ARTICLES

राजस्थान की कलात्मक विरासत को सहेजती महिलाएं

शेफाली मार्टिन्स जयपुर, राजस्थानराजस्थान के विभिन्न हस्तशिल्प कलाओं में लाख की चूड़ियां अन्य आभूषणों से बहुत पहले से मौजूद थी. वैदिक युग...

इंग्लैंड में रहकर भी नहीं भूले सभ्यता, विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल से की मास्टर्स की पढ़ाई

वेदांत वर्मा उर्फ़ यश वर्मा इंग्लैंड के तीसरे स्थान और विश्व के नामचीन बिजनेस स्कूल में मास्टर्स की पढ़ाई स्कॉलरशिप पर पूरी...

दर्जन भर युगल जोड़ियों के विवाहोत्सव के साथ संपन्न हुआ अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ

हिलसा अनुमंडल स्थित राधाकृष्ण मंदिर वृंदावन चौक पर पिछले 24 मई से प्रारंभ हुए अखंड सह नौ कुण्डीय गायत्री महायज्ञ का शनिवार...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

भाजपा बिहार से डर गई है, मोदी-शाह के दौरे पर बोले तेजस्वी-आने से कुछ नहीं होगा..लोकसभा में हारना तय है

पटनाः बिहार में लोकसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां चरम पर पहुंच गई हैं। अपनी जीत को सुनिश्चित करने के लिए पक्ष और...

सक्षमता परीक्षा पास कर चुके शिक्षकों के लिए स्कूल आवंटन शुरु, जान लीजिए क्या है प्रक्रिया ? एकदम आसान हो गया..

पटनाः सक्षमता परीक्षा उत्तीर्ण होने वाले बिहार के नियोजित शिक्षकों की तैनाती के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई ह। शिक्षकों का पदस्थापना...

नवादा की रैली में मोदी का विपक्ष पर बड़ा हमला, बोले-मौज करने के लिए पैदा नहीं हुआ है, मेहनत करने के लिए जन्मा है

पटना डेस्कः नवादा में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा...

भारत दुनिया की शीर्ष तीन सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनने का देख रहा ख्वाब, सहकारी आंदोलन की बड़ी भूमिका 

अगर भारत दुनिया की शीर्ष तीन सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनने की ओर तेजी से बढ़ रहा है, तो इसमें सहकारी आंदोलन...

Recent Comments