Home अभी-अभी बिहार के मजदूरों के लिए बड़ी खुशखबरी, जान ले ये खास योजना,...

बिहार के मजदूरों के लिए बड़ी खुशखबरी, जान ले ये खास योजना, बेटी की शादी में मिलेंगे इतने रुपये

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

Desk: निर्माण कार्य से जुड़े मजदूरों को बेटियों की शादी में परेशानी नहीं होगी। इसके लिए बिहार भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के अंतर्गत उप निर्माण श्रमिकों को निबंधन कराना होगा। निबंधन के तीन वर्ष पूरा होने के बाद पुत्री की शादी के लिए 50 हजार रुपये का लाभ मिलेगा। इस योजना का लाभ 18 से 60 वर्ष उम्र के वैसे श्रमिक ले सकेंगे जो 12 माह में 90 दिनों तक मजदूर के रूप में कार्य किया है। वैसे श्रमिक अपने आधार कार्ड, बैंक पासबुक व दो फोटोग्राफ के साथ निबंधन कराना होगा। उनका कार्यस्थल पर निबंधन कराने की भी व्यवस्था है।

उक्त जानकारी देते हुए श्रम अधीक्षक विनोद प्रसाद ने बताया कि अब तक जिले के 35 हजार श्रमिकों का निबंधन हुआ है। प्रत्येक बुधवार को संबंधित प्रखंड के श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी से संपर्क कर निबंधन का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इसमें मनरेगा मजदूरों को योजना का लाभ मिलेगा। इसमें मनरेगा के वाणिकी का कार्य करने वाले श्रमिकों को लाभ नहीं मिलेगा। इसके तहत स्वाभाविक मृत्यु की स्थिति में दो लाख रुपये का लाभ मिलेगा। जबकि दुर्घटना में मृत्यु पर चार लाख रुपये नामित स्वजनों को लाभ मिलेगा।

पहले निर्माण मजदूरों को प्रति माह 20 रुपये सदस्यता शुल्क देना होता था। अब राज्य सरकार ने पांच वर्ष के लिए निबंधन शुल्क 50 रुपये निर्धारित किया है। इसमें से 20 रुपये निबंधन शुल्क व 50 पैसे प्रतिमाह सदस्यता शुल्क देना है। इसका लाभ घर व सड़क निर्माण में कार्य करने वाले सभी प्रकार के कुशल व अकुशल मजदूर ले सकेंगे।

कैश क्रेडिट खत्म होने से धान अधिप्राप्ति बाधित

शाहकुंड प्रखंड के विभिन्न पैक्सो में कैश क्रेडिट नहीं रहने के कारण प्रखंड में धान अधिप्राप्ति की रफ्तार धीमी हो गई है। वही तीन पैक्स वासुदेवपुर, नारायणपुर, एवं मानिकपुर शहजादपुर पैक्स में लक्ष्य से महज 10 फ़ीसदी ही धान की अधिप्राप्ति हो सकी है। इन तीनों पैक्सों के किसान धान बेचने के लिए त्राहिमाम है। इधर जिन पैक्सों का कैश क्रेडिट खत्म हो गई है। उनमें नारायणपूर, हरपुर, कोडंण्डा डोहराडीह, बेल्थू, दासपुर,खुलनी,गोबराँय पैक्स है।इसके अलावे बीसीओ आशीत अजीत ने बताया कि व्यापार मंडल का भी कैश क्रेडिट खत्म हो गया है। बीसीओ ने बताया कि जिसनी कैश क्रेडिट थी उतनी धान अधिप्राप्ति हो चूंकि है। बीसीओ ने बताया कि कैश क्रेडिट खत्म होने से धान अधिप्राप्ति की रफ्तार धीमी हो गई है। हालांकि कुछ राशि मिलरों द्वारा उपलब्ध कराई गई है। लेकिन उक्त राशि काफी कम पड़ रही है। कैश क्रेडिट खत्म हो जाने से किसानों के धान बिक नहीं पा रहें है।

RELATED ARTICLES

राष्ट्रपति के पद से हटने के बाद महामहिम द्रौपदी मुर्मू क्या करेंगी ? बिहार में आकर खुद बता दी, जानिए

पटनाः बिहार में चौथे कृषि रोड मैप 2023 की शुरुआत हो गई है। पटना के बापू सभागार में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने...

भारतीय देशभक्त सिखों को मत जोड़ो खालिस्तानियों से, कुछ देश में जानबूझकर झूठ फैलाया जा रहा है

इधर हाल के दौर में कनाडा, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया वगैरह देशों में मुट्ठीभर सिरफिरे खालिस्तानियों की हरकतों को भारत के सामान्य राष्ट्र भक्त...

अस्पताल के अंदर इवनिंग OPD में नहीं मिल रहे मरीज, सुबह के शिफ्ट में 2000 तक पहुंच रहे मरीज

पटनाः बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव ने राज्य में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने के लिए अपनी तरफ से तो भरसक...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सक्षमता परीक्षा देकर बाहर निकले शिक्षक, बोले-सवाल बहुत मुश्किल था, एग्जाम से पहले जूता-मोजा निकलवाया गया

पटनाः बिहार बोर्ड की तरफ से ली जा रही सक्षमता परीक्षा की शुरुआत हो गई है। पहले दिन शिक्षकों ने परीक्षा के...

जीतनराम मांझी ने RJD नेता तेजस्वी यादव पर जमकर बरसे, बोले-नौकरी और रोजगार सिर्फ CM नीतीश ने दिया

पटना डेस्कः बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हम पार्टी के संरक्षक जीतनराम मांझी ने राजद नेता तेतस्वी यादव के जन विश्वास यात्रा...

कैमूर हादसे पर CM नीतीश ने जताया दुःख, सभी लोगों की हो गई शिनाख्त, परिवार में मातम का माहौल

पटना डेस्कः बिहार के कैमूर जिला में एक बड़ी घटना घटी है, जिसमें 9 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई है। दरअसल...

देश देखेगा गोवा पर्यटन संग आध्यात्मिक राष्ट्रवाद से विकास की राह पर आगे बढ़ेगा, सन-सैंड-सी’ संग जुड़ा गोवा

गोवा अपनी छवि का विस्तार करने का संकल्प ले चुका है।  उसकी चाहत है कि उसे उसके समुद्री तटों, गिरिजाघरों के अलावा भी...

Recent Comments