Home अभी-अभी लेट लतीफी व काम टालने के लिए बदनाम हैं बेचारे बाबू, आइएएस...

लेट लतीफी व काम टालने के लिए बदनाम हैं बेचारे बाबू, आइएएस अधिकारी भी कहां हैं पीछे ?

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

Desk: सरकारी कामकाज में बाबू लोगों की लेट लतीफी और काम टालने की नई-नई तरकीब के इतने किस्से हैं कि लोग इनकी चर्चा नहीं करते हैं। लेकिन बिहार की चर्चा करें, बानगी देखें तो कह उठेंगे- बाबू तो बेचारे बदनाम हैं, काम टालने के मामले में शीर्ष पर बैठे आइएएस अधिकारी कम से कम इस मोर्चे पर उनसे बहुत पीछे नहीं हैं। बेशक उनके बीच तेेज रफ्तार से काम करने वाले अधिकारी भी हैं। फिर भी उनकी संख्या कम नहीं है, जो टलते रहने की हद तक किसी काम को टाल सकते हैं। इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि उनके विचार के लिए आया विषय अंतत: किसके हित से जुड़ा है। यहां तक कि वे अपनी भलाई के मामले में भी जल्दबाजी नहीं करते। रिमाइंडर का इंतजार करते हैं। बस, वही तारीख पर तारीख जैसा मामला समझ लीजिए।

13 डीएम सहित 20 अफसरों को पत्र

राज्य सरकार के अधिकारियों का लेखा जोखा सामान्य प्रशासन विभाग के पास रहता है। इसे आप कारपोरेट के लिहाज से एचआर डिपार्टमेंट कह सकते हैं। राज्य सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग ने 19 जनवरी को एक पत्र जारी किया। यह बिहार में तैनात भारतीय प्रशासनिक सेवा के 20 अधिकारियों के नाम है। ये सब 2011, 2012 एवं 2013 बैच के अधिकारी हैं। इनमें से 13 फिलहाल विभिन्न जिलों में डीएम के पद पर तैनात हैं। बाकी सचिवालय में हैं या जिलों में किसी न किसी महत्वपूर्ण पदों की शोभा बढ़ा रहे हैं।

सामान्य प्रशासन विभाग के अवर सचिव सिद्धेश्वर चौधरी के हवाले से पत्र जारी किया गया है। यह पत्र दरअसल रिमाइंडर है, जिसे सरकारी भाषा में स्मार पत्र कहा जाता है। भारतीय प्रशासनिक सेवा के जिन अधिकारियों को पत्र दिया गया है, उन्हें लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी मसूरी में मध्य सेवा कालीन प्रशिक्षण में जाना है। यह प्रशिक्षण इस साल 22 फरवरी से 19 मार्च तक है। प्रशिक्षण में शामिल होने के लिए अधिकारियों को संबंधित वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कराना है। 19 जनवरी के पत्र में अधिकारियों को याद दिलाया गया है कि रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख 25 जनवरी है। जाहिर है, इस तारीख तक अधिकारी रजिस्ट्रेशन नहीं कराएंगे तो प्रशिक्षण में हिस्सा नहीं ले पाएंगे। जबकि यह अनिवार्य प्रशिक्षण है।

डेढ़ महीने से चल रही है प्रक्रिया

पहली बार भारत सरकार के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग ने तीन दिसम्बर 2020 को राज्य सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग को इसके बारे में पत्र लिखा। इस पत्र की जानकारी संबंधित अधिकारियों को दी गई। सामान्य प्रशासन विभाग ने 22 दिसम्बर 2020 को एक पत्र इन अधिकारियों को अलग से भेजा। 28 दिनों तक कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। अंत में रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख से एक सप्ताह पहले इन अधिकारियों को याद दिलाने के लिए 19 जनवरी को पत्र लिखना पड़ा कि रजिस्ट्रेशन नहीं कराएंगे तो प्रशिक्षण में शामिल नहीं हो पाएंगे।

जनहित के मामले में भी यही रूख

प्रशिक्षण किसी अधिकारी के कैरियर का विषय है। पिछड़ गए तो निजी नुकसान होगा। लेकिन, राज्य हित के मामलों में भी ऐसी ही सुस्ती नजर आती है। वित्त विभाग के प्रधान सचिव एस सिद्धार्थ ने सभी विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव और सचिव को 31 दिसम्बर 2020 को एक पत्र लिखा। पत्र में आग्रह किया गया कि सभी विभाग चालू वित्त वर्ष के सेकेंड सप्लीमेंट्री बजट के लिए अपने विभाग का प्रस्ताव भेज दें। प्रस्ताव भेजने की आखिरी तारीख आठ जनवरी तय की गई। वित्त विभाग ने आठ के बदले 18 जनवरी तक विभागों के प्रस्ताव का इंतजार किया। सभी विभागों के प्रस्ताव नहीं मिले। 18 जनवरी को सिद्धार्थ ने एक और पत्र जारी किया। इसमें प्रस्ताव भेजने की आखिरी तारीख 22 जनवरी तक इस हिदायत के साथ दी गई है कि उसके बाद अगर उनके प्रस्ताव मिले तो उसे सेकेंड सप्लीमेंट्री बजट में शामिल नहीं किया जाएगा।

राज्य को क्या नुकसान होगा

विधानमंडल का सत्र 19 फरवरी से आयोजित है। इसमें सेकेंड सप्लीमेंट्री बजट पारित होगा। पूर्ण बजट में निर्धारित राशि से अधिक किसी विभाग में खर्च है तो सेकेंड सप्लीमेंट्री बजट से उसकी भरपाई की जाती है। इतना ही नहीं, केंद्र प्रायोजित योजनाओं में अगर राज्य के हिस्से से दी जाने वाली राशि कम पड़ रही है तो उसकी भी भरपाई होगी। सिद्धार्थ के पत्र में विभागों को सावधान किया गया था-कहीं ऐसा न हो कि राज्य का हिस्सा न मिलने की हालत में केंद्र की राशि के सरेंडर करने की नौबत आ जाए।

RELATED ARTICLES

राष्ट्रपति के पद से हटने के बाद महामहिम द्रौपदी मुर्मू क्या करेंगी ? बिहार में आकर खुद बता दी, जानिए

पटनाः बिहार में चौथे कृषि रोड मैप 2023 की शुरुआत हो गई है। पटना के बापू सभागार में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने...

भारतीय देशभक्त सिखों को मत जोड़ो खालिस्तानियों से, कुछ देश में जानबूझकर झूठ फैलाया जा रहा है

इधर हाल के दौर में कनाडा, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया वगैरह देशों में मुट्ठीभर सिरफिरे खालिस्तानियों की हरकतों को भारत के सामान्य राष्ट्र भक्त...

अस्पताल के अंदर इवनिंग OPD में नहीं मिल रहे मरीज, सुबह के शिफ्ट में 2000 तक पहुंच रहे मरीज

पटनाः बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव ने राज्य में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने के लिए अपनी तरफ से तो भरसक...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

अमित शाह आ रहे हैं बिहार, 9 मार्च को पटना के पालीगंज में होगी NDA की महारैली, BJP तैयारी करने में जुटी

पटना डेस्कः बिहार में एनडीए की सरकार बनने के बाद सबसे पहले पीएम मोदी का दौरा हुआ था। लेकिन अब भाजपा के...

लालू यादव ने गांधी मैदान से कर दिया ऐलान, बोले- दिल्ली पर कब्जा करने की तैयारी में जुटे जा..चुनाव की तैयारी में लगे..हम खुद...

पटनाः इतिहासिक गांधी मैदान में महागठबंधन की जन विश्वास महारैली संपन्न हो गयी। इस रैली में महागठबंधन के तमाम बड़े नेता शामिल...

बिहार के नये मुख्यसचिव बने ब्रजेश मेहरोत्रा, आमिर सुबहानी बन सकते हैं BPSC के अध्यक्ष, राज्य सरकार ने जारी की अधिसूचना

पटनाः बिहार में एनडीए की सरकार बनते ही अधिकारियों की पोस्टिंग में भी असर दिख रहा है। नीतीश सरकार ने ब्रजेश मेहरोत्रा...

औरंगाबाद में PM मोदी ने राजद-कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले-मां-बाप की सरकारों के काम का जिक्र करने की हिम्मत नहीं, चुनाव लड़ने से भाग...

औरंगाबादः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव से पहले औरंगाबाद एकदिवसीय दौरे पर पहुंचे। यहां नीतीश कुमार भी मौजूद रहे। पीएम मोदी के...

Recent Comments