Home अभी-अभी देशभर के साढ़े चार लाख मंदिरों से हट सकता हैं सरकार का...

देशभर के साढ़े चार लाख मंदिरों से हट सकता हैं सरकार का कब्‍जा, मंदिरों पर होगा संतों का नियंत्रण

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

Desk: अगले छह महीने में राज्य धार्मिक न्यास बोर्ड सरकारी नियंत्रण से स्वतंत्र होंगें और मंदिरों पर संतों का नियंत्रण होगा। यह बात अखिल भारतीय संत समिति के राष्ट्रीय महामंत्री दंडी स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने रविवार को अखिल भारतीय संत समिति की बिहार प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में कहीं। उन्होंने कहा कि पूरे देश में छोटे-बड़े लगभग साढ़े 18 लाख मंदिर हैं। इसमें से साढ़े नौ लाख मंदिर पंजीकृत हैं।

कहा- सनातन धर्म के लिए संकट का समय

स्‍वामी जितेंद्रानंद ने कहा कि फिलहाल साढ़े चार लाख मंदिर विभिन्न राज्यों की सरकारों के कब्जे में हैं। कोई भी ऐसा मंदिर, जहां चढ़ावा चढ़ता है, वह हमारे पास नहीं है। एक भी ऐसा मंदिर या मठ हमारे पास नहीं है, जिसके पास 100-200 एकड़ की जमीन हो। आने वाला समय सनातन धर्म के लिए संकट का समय है। बाकरगंज स्थित बाबा भीखमदास ठाकुरबाड़ी में आयोजित बैठक में राज्य के विभिन्न जिलों के मठ-मंदिरों के साधु-संत पहुंचे थे।

आपसी प्रतिद्वंद्विता छोड़ि‍ए

स्वामी जितेंद्रानंद ने कहा, बिहार पहले अपने पांव पर खड़ा हो। अगर बिहार खड़ा हो गया तो हम नेपाल को बचा लेंगे। आपसी प्रतिद्वंद्विता छोड़‍िए। ये मत देखिए कि कौन किस जिले का है और किस प्रदेश का। तय कीजिए, हम छह महीने में बिहार के हरेक जिले में 11 लोगों की कमेटी बना देंगे।

संगठित होकर करना होगा काम

राज्य धार्मिक न्यास बोर्ड के सदस्य सुखदेव दास ने कहा, संत समाज को संगठित होकर काम करना होगा। हमारे संतों की गोली मारकर हत्या कर दी जा रही है। न्यास बोर्ड धर्म की रक्षा के लिए है। इस बात को हम धार्मिक न्यास बोर्ड में भी रखेंगे। जरूरत पड़ी तो मुख्यमंत्री से भी मिलेंगे।

संतों ने संगठित होने पर दिया जोर

आचार्य महंत परमानंद साहेब ने कहा, हमें एकत्रित और संगठित होना होगा। इस मौके पर राष्ट्रीय संगठन मंत्री महर्षि अंजनेशानंद सरस्वती, प्रदेश महामंत्री स्वामी रणजीतेशानंद, प्रदेश उपाध्यक्ष स्वामी अरुणानंद, सह-संगठन मंत्री स्वामी तुलसी दास, कोषाध्यक्ष महंत उमेश दास, स्वामी कृष्ण मोहन दास, महंत विजय शंकर गिरि सहित कई जिलों के प्रभारी, संयोजक और संत-महंत उपस्थित हुए। इससे पहले संतों का स्वागत महंत विमल दास और नरेश ने किया।

RELATED ARTICLES

राष्ट्रपति के पद से हटने के बाद महामहिम द्रौपदी मुर्मू क्या करेंगी ? बिहार में आकर खुद बता दी, जानिए

पटनाः बिहार में चौथे कृषि रोड मैप 2023 की शुरुआत हो गई है। पटना के बापू सभागार में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने...

भारतीय देशभक्त सिखों को मत जोड़ो खालिस्तानियों से, कुछ देश में जानबूझकर झूठ फैलाया जा रहा है

इधर हाल के दौर में कनाडा, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया वगैरह देशों में मुट्ठीभर सिरफिरे खालिस्तानियों की हरकतों को भारत के सामान्य राष्ट्र भक्त...

अस्पताल के अंदर इवनिंग OPD में नहीं मिल रहे मरीज, सुबह के शिफ्ट में 2000 तक पहुंच रहे मरीज

पटनाः बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव ने राज्य में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करने के लिए अपनी तरफ से तो भरसक...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

लालू यादव ने गांधी मैदान से कर दिया ऐलान, बोले- दिल्ली पर कब्जा करने की तैयारी में जुटे जा..चुनाव की तैयारी में लगे..हम खुद...

पटनाः इतिहासिक गांधी मैदान में महागठबंधन की जन विश्वास महारैली संपन्न हो गयी। इस रैली में महागठबंधन के तमाम बड़े नेता शामिल...

बिहार के नये मुख्यसचिव बने ब्रजेश मेहरोत्रा, आमिर सुबहानी बन सकते हैं BPSC के अध्यक्ष, राज्य सरकार ने जारी की अधिसूचना

पटनाः बिहार में एनडीए की सरकार बनते ही अधिकारियों की पोस्टिंग में भी असर दिख रहा है। नीतीश सरकार ने ब्रजेश मेहरोत्रा...

औरंगाबाद में PM मोदी ने राजद-कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले-मां-बाप की सरकारों के काम का जिक्र करने की हिम्मत नहीं, चुनाव लड़ने से भाग...

औरंगाबादः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकसभा चुनाव से पहले औरंगाबाद एकदिवसीय दौरे पर पहुंचे। यहां नीतीश कुमार भी मौजूद रहे। पीएम मोदी के...

CM नीतीश के भाषण पर हंसी नहीं रोक पाए PM मोदी, औरंगाबाद की सभा में ऐसा क्या हुआ ? जानिए

औरंगाबादः बिहार में एनडीए की सरकार बनने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी औरंगाबाद पहुंचे। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी...

Recent Comments