Home Bihar Election सीतामढ़ी: कांग्रेस प्रत्याशी टुन्ना नामांकन भरने के लिए मांग रहे चंदा, कई...

सीतामढ़ी: कांग्रेस प्रत्याशी टुन्ना नामांकन भरने के लिए मांग रहे चंदा, कई जगह है घर और जमीन

- Advertisement -
block id 8409 site livebihar.com - mob 300x600px_B

लाइव बिहार: जिले के रीगा विधानसभा के निवर्तमान विधायक सह कांग्रेस प्रत्याशी अमित कुमार टुन्ना इनदिनों नामांकन दाखिल करने के लिए चंदा मांग रहे हैं. वह भी प्रत्येक व्यक्ति से मात्र 10 रुपये. हालांकि विधायक जी के 10-10 रुपया चंदा मांगने की खबर को लोग पचा नहीं पा रहे हैं. लोगों को यह मसला समझ नहीं आ रहा है, लेकिन राजनीति को नजदीक से समझने वाले लोग टुन्ना की इस कार्यशैली को महज एक ड्रामा बता रहे हैं.

सभी को यह बखूबी मालूम है कि कांग्रेस के अमित कुमार टुन्ना कोई साधारण व्यक्ति नहीं, करोड़पति हैं और उन्हें किसी चीज की कोई कमी नहीं है. उनका संपर्क राहुल गांधी तक है. पिछले चुनाव में उनके प्रचार में राहुल गांधी आए भी थे. ऐसे में सब तरह से सम्पन्न होने के बावजूद चंदा की मांग करना टुन्ना की नौटंकी ही कही जाएगी. क्षेत्र में सभी इसे विधायक जी की नौटंकी बता रहे हैं और लगातार इस बात पर चर्चा कर रहे हैं.

लोगों का कहना है कि टुन्ना करोड़ों के मालिक हैं. पांच साल विधायक भी रहे हैं. फिर नामांकन के लिए चंदा क्यों मांग रहे हैं? चंदा वाली बात पर क्षेत्र की जनता कई तरह की बातें कर रही है. हर कोई इस बात को अलग नजरिए से देख और सोच रहा है. बाहरहाल, चंदा मांगना और उन पैसों से नामांकन भरने का कितना फायदा होगा? यह तो टुन्ना ही जानते होंगे.

बता दें कि कांग्रेस प्रत्याशी टुन्ना हमेशा सुर्खियों में रहे हैं और रहना भी चाहते हैं. बाढ़ के दौरान गरीबों और पीड़ितों की मदद कर क्षेत्र में चर्चा में रहे थे. हाल ही में कृषि बिल के विरोध में बैलगाड़ी से रैली कर सुर्खियां बटोरी थी. अब वे चंदा मांग कर चर्चा में रहना चाह रहे हैं, जबकि यह सब करने की उन्हे कोई जरूरत ही नहीं है. यह बात हर किसी को मालूम है.

पिछले चुनाव में शपथ पत्र में खुद टुन्ना ने लिख कर दिया था कि वे करोड़ों की चल और अचल संपत्ति के मालिक हैं. उनका घर सुप्पी प्रखंड के सोनार गांव में है. वहां पांच एकड़ से अधिक जमीन है. सीतामढ़ी शहर में उनका आवास है, जो करोड़ों की है. कुछ वर्ष पूर्व उन्होंने करीब 70 लाख में शहर में जमीन समेत मकान की खरीद की थी. रांची में मकान है, कीमती जमीन है. वाहन की कमी नहीं है, जर्मनी निर्मित रायफल है. इतना सब कुछ होने के बावजूद नामांकन को चंदा मांगना किसी को पच नहीं रहा है और यह लाजिमी है.

RELATED ARTICLES

बिहार में आइसोलेशन सेंटर दोबारा शुरू, होली पर दूसरे राज्‍यों से आनेवाले को रखा जाएगा

Desk: राजधानी में होली पर कोरोना से ज्यादा प्रभावित राज्यों से आने वालों की जांच के साथ उन्हें आइसोलेशन सेंटर में रखने...

बिहार पंचायत चुनाव में वोटिंग के लिए ये दस्तावेज रखें, आयोग ने जारी की 16 दस्तावेजों की लिस्ट

Desk: बिहार में पंचायत चुनाव के वोटरों के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने उन 16 दस्तावेजों की लिस्ट जारी कर दी है...

राज्यसभा की सीट को लेकर सियासत, चिराग बोले- मेरी मां राजनीति में नहीं आना चाहती

लाइव बिहार: लोजपा संस्थापक और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन के बाद राज्यसभा की एक सीट खाली हो गई है....

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

भाजपा बिहार से डर गई है, मोदी-शाह के दौरे पर बोले तेजस्वी-आने से कुछ नहीं होगा..लोकसभा में हारना तय है

पटनाः बिहार में लोकसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां चरम पर पहुंच गई हैं। अपनी जीत को सुनिश्चित करने के लिए पक्ष और...

सक्षमता परीक्षा पास कर चुके शिक्षकों के लिए स्कूल आवंटन शुरु, जान लीजिए क्या है प्रक्रिया ? एकदम आसान हो गया..

पटनाः सक्षमता परीक्षा उत्तीर्ण होने वाले बिहार के नियोजित शिक्षकों की तैनाती के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई ह। शिक्षकों का पदस्थापना...

नवादा की रैली में मोदी का विपक्ष पर बड़ा हमला, बोले-मौज करने के लिए पैदा नहीं हुआ है, मेहनत करने के लिए जन्मा है

पटना डेस्कः नवादा में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा...

भारत दुनिया की शीर्ष तीन सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनने का देख रहा ख्वाब, सहकारी आंदोलन की बड़ी भूमिका 

अगर भारत दुनिया की शीर्ष तीन सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनने की ओर तेजी से बढ़ रहा है, तो इसमें सहकारी आंदोलन...

Recent Comments